जयपुर Rajasthan: CM अशोक गहलोत ने तीन दिवसीय आईटी दिवस समारोह की शुरुआत की

Rajasthan: CM अशोक गहलोत ने तीन दिवसीय आईटी दिवस समारोह की शुरुआत की

जयपुर: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार शाम यहां जवाहर लाल नेहरू रोड पर लोगों की रैली ‘टेक-रश-रन’ को हरी झंडी दिखाकर तीन दिवसीय आईटी दिवस समारोह की शुरुआत की. गहलोत ने जवाहर कला केंद्र में आयोजित स्मार्ट विलेज प्रदर्शनी का भी निरीक्षण किया और प्रतिभागियों से बातचीत की. कार्यक्रम के बाद पत्रकारों से बातचीत में गहलोत ने कहा कि राजस्थान आईटी आधारित सेवाएं देने में आगे बढ़ रहा है. उन्होंने कहा कि उनके पिछले कार्यकाल में सरकार ने आईटी आधारित सेवाओं के लिए तीन प्रतिशत बजट निर्धारित किया था जिसके रोमांचक परिणाम सामने आए हैं.

उन्होंने कहा कि हम आईटी आधारित शासन देने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं. प्रदेश के युवा इस माहौल से उत्साहित हैं, प्रदेश में स्टार्ट-अप भी फल-फूल रहे हैं. राज्य में 19 मार्च से 21 मार्च तक आयोजित होने वाले इस तीन दिवसीय महोत्सव के तहत राजस्थान कॉलेज, कॉमर्स कॉलेज और जवाहर कला केंद्र में विभिन्न कार्यक्रम होंगे. कॉमर्स कॉलेज के प्रांगण में ‘जॉब फेयर’ (रोजगार मेला) का भी आयोजन किया जाएगा, जिसमें 400 से ज्यादा कंपनियां हिस्सा लेंगी और युवाओं को रोजगार के विकल्प देंगी. उम्मीदवारों का चयन ऑन-द-स्पॉट साक्षात्कार के माध्यम से किया जाएगा. आईटी, बीपीओ, इंजीनियरिंग, टेलीकॉम, सिविल, बैंकिंग और फाइनेंस, कंसल्टिंग, रिटेल और इलेक्ट्रिकल के क्षेत्र में लगभग 20,000 युवाओं को रोजगार मिलने की संभावना है. राजस्थान महाविद्यालय में 19 मार्च से 21 मार्च तक 36 घंटे का ऑफलाइन हैकथॉन आयोजित किया जाएगा जिसमें 3,000 प्रतिभागी राज्य व देश के विकास के लिए अनेक विषयों की समस्याओं के साथ-साथ दैनिक जीवन की समस्याओं का समाधान करेंगे.

इसके अलावा, फेस्ट के दौरान एक लाख से अधिक प्रतिभागियों के बीच एक ऑनलाइन हैकथॉन का आयोजन किया जाएगा. आधिकारिक प्रवक्ता के अनुसार, दोनों मोड में शिक्षा, कृषि और खाद्य सुरक्षा, कृत्रिम बुद्धिमत्ता, स्थिरता, वित्तीय समावेशन और आर्थिक सशक्तिकरण, स्मार्ट सिटी और बुनियादी ढांचा, सामाजिक प्रभाव और अन्य विषयों को शामिल किया गया है. विजेता को 25 लाख रुपये, जबकि दूसरे और तीसरे विजेता को क्रमश: 20 लाख और 15 लाख रुपये दिए जाएंगे. समारोह के तहत जवाहर कला केंद्र के शिल्पग्राम में एक 'स्मार्ट विलेज' विकसित किया गया है, जिसमें स्मार्ट विलेज की अवधारणा को पूरा करने वाली सभी तकनीकें ग्रामीण क्षेत्र की आदर्श रूपरेखा, कृषि उपकरण, ड्रोन, स्प्रिंकलर सिस्टम, जीआईएस, शामिल हैं. वाटरशेड, डिजिटल ट्रांजेक्शन, ई-मित्र, ई-मित्र प्लस मशीन प्रदर्शित की गई है. सोर्स- भाषा

और पढ़ें