भीनमाल के बिजनेसमैन की चीन में अपहरण के बाद की गई हत्या, किडनैपर ने मांगे 1 करोड़, नहीं दिए तो चौथी मंजिल से फेंका

जालोर: जालोर के भीनमाल में रहने वाले एक व्यापारी युवक का चीन में अपहरण कर किडनैपर्स ने परिवार से 1 करोड़ की फिरौती मांगी. फिरौती नहीं मिलने पर किडनैपर्स ने युवक को चार मंजिला इमारत से नीचे फेंक कर उसकी हत्या कर दी. परिवार ने युवक के बिजनेस पार्टनर पर किडनैपिंग और मर्डर का शक जताया है.

परिवार की बेबस हैं कि वीजा नहीं मिलने के कारण अब परिवार बेटे का शव भारत नहीं ला पा रहे है. 21 जून को सतीश का चीन में कुछ लोगों ने अपहरण कर लिया और परिवार से वॉट्सऐप कॉल के जरिए 1 करोड़ की फिरौती मांगी. फिरौती राशि मुंबई में हवाला के जरिए एक व्यापारी को देने के लिए अपहरणकर्ताओं ने परिवार से कहा. 

परिवार वाले फिरौती की व्यवस्था नहीं कर पाए तो आरोपियों ने सतीश की चार मंजिला इमारत से नीचे फेंक कर हत्या कर दी. हत्या के बाद सतीश के परिवार वाले शव लाने के लिए वीजा मिलने का इंतजार कर रहे हैं. जालोर सांसद लुंबाराम ने परिवार को वीजा दिलाने और शव को भारत लाने के लिए केंद्रीय मंत्री एस जयशंकर को पत्र लिखा है.

नरसाराम ने बताया कि सतीश पहले मुंबई में काम करता था. वहां उसके किसी दोस्त ने बताया कि चीन से मोबाइल के पार्ट्स लाकर भारत में बेचने पर काफी मुनाफा होता है. इस पर सतीश भी दो साल पहले चीन के गुआंगजों शहर गया था. वहां से उसने हर महीने कम से कम एक बार मोबाइल के पार्ट्स भारत लाकर बेचना शुरू कर दिया. इस दौरान वो 15 से 20 दिन चीन में रुकता भी था.

सतीश के चाचा मोहनलाल ने बताया कि सतीश का मोबाइल पार्ट्स का बिजनेस काफी अच्छा चल रहा था. पहले वो चीन के गुआंगजो शहर में वाइजन नाम के व्यापारी के साथ बिजनेस कर रहा था. वाइजन ने ही बिजनेस के लिए उसे भारत से चीन बुलाया था. कुछ समय पहले उसने वाइजन के साथ काम करना छोड़ दिया वहीं केविन नाम के व्यक्ति के साथ काम करना शुरू किया था. 

कुछ समय बाद नए बिजनेस पार्टनर केविन से सतीश का विवाद हो गया. सतीश के परिजनों को संदेह है कि उसकी हत्या के पीछे नए बिजनेस पार्टनर का हाथ है. परिवार का कहना है कि सतीश के बिज़नेस पार्टनर ने पैसों के लालच में सतीश को किडनैप करवाया और बाद में पैसे नहीं मिलने पर उसकी हत्या करवा दी.
सतीश के चाचा मोहनलाल ने बताया कि 21 जून को रात करीब 11 बजे सतीश के फोन से किडनैपर्स ने उसके सूरत में रहने वाले दोस्त कल्पेश कुमार प्रजापत को वॉट्सऐप कॉल किया.

वॉट्सऐप कॉल पर किडनैपर ने कल्पेश को कहा कि उन्होंने सतीश को किडनैप कर लिया है. अगर उसे जिंदा देखना चाहते हैं तो 1 करोड़ फिरौती देनी होगी जिसके बाद परिवार को सतीश के अपहरण की जानकारी मिली, किडनैपिंग का पता चलने पर परिवार ने सतीश के मोबाइल पर फोन किया. किडनैपर ने उसकी बात सतीश से करवाई.

सतीश ने कहा की मुझे इन लोगों ने यहां किडनैप कर लिया है. मुझे पता नहीं है कि मैं कहां हूं. इन लोगों ने मेरे हाथ-पैर बांध रखे हैं और मारपीट कर रहे हैं. मुझे धमका रहे हैं कि तुम्हारे घरवालों ने 1 करोड़ नहीं दिए तो तुम्हें मार देंगे. सतीश से बात होने के बाद उसके पिता ने किडनैपर्स को 22 जून को दोपहर दो बजे तक पैसों की व्यवस्था होने की बात कही.

22 जून तक सतीश के पिता पैसों की व्यवस्था नहीं कर पाए. किडनैपर्स ने सतीश के फोन से उसके परिवार को 22 जून को फिर फोन किया. सतीश के पिता ने बताया कि 1 करोड़ रुपए की व्यवस्था करने में थोड़ा समय लगेगा. इस पर किडनैपर्स ने कहा कि पैसों की व्यवस्था जल्दी नहीं की तो वो सतीश को जान से मार देंगे.

फिर 24 जून को किडनैपर ने सतीश के भाई को फ़ोन कर कहा कि सतीश को जिंदा देखना चाहते हो तो पैसे हवाला के जरिए देने होंगे और मुंबई में पारस चौधरी नाम का व्यापारी है जिसकी वीजे गोल्ड बंशी पावर चामुण्डा मोबाइल नाम से फर्म है, पैसे उसे देने हैं. सतीश के परिवार वाले 1 करोड़ रुपए का इंतजाम नहीं कर पाए तो उसके भाई हितेश ने 23 जून को भारतीय दूतावास में ईमेल करके अपने भाई की किडनैपिंग के बारे में बताया.

इसके बाद 26 जून को भारतीय दूतावास से सतीश के परिवार को सतीश की चीन के गुआंगजों शहर में चार मंजिला इमारत से नीचे गिरने से मौत की जानकारी दी गई. सतीश के मौत की खबर सुनकर पूरा परिवार सदमे में हैं.  सतीश का शव लाने के लिए परिवार दिल्ली पहुंचे हुए हैं ताकी केन्द्र सरकार की मदद से शव को भारत लाया जा सके . 

परिवार को चीन का वीजा नहीं मिल रहा है. वीजा नहीं मिलने के कारण वे सतीश का शव भारत नहीं ला पा रहे हैं. केन्द्र सरकार से परिवार ने विजा दिलवाने और सतीश के शव को भारत लाने की मांग की है . सतीश के परिवार ने किडनैपर और उनके साथ मिले मुंबई के हवाला व्यापारी के खिलाफ कार्रवाई की भी मांग की है.

जालोर सांसद लुम्बाराम चौधरी ने 26 जून को केंद्रीय मंत्री एस जयशंकर को पत्र लिखकर सतीश का शव जल्द भारत मंगवाने के लिए पत्र लिखा है. चीन के दूतावास से सम्पर्क करके सतीश का शव जल्दी भारत लाने और परिवार को न्याय दिलाने की मांग की है. उन्होंने सतीश की हत्या मामले की भी जांच कर कार्रवाई करवाने करा मांग की.