2019/04/20 09:54
इस्लामी कैलेंडर के आठवें महीने शाबान की आज 15 वीं तारीख है। इस्लाम में इस रात को शब ए बारात यानी सबसे अहम रात मानी गई है। शब ए बारात दो शब्दों से मिलकर बना है।
2019/04/19 02:04
अब तक आपने सरकारी तंत्र में अफसरों की गजेटेड़ या नॉन गजेटेड़ (राजपत्रित अथवा अराजपत्रितद्) किस्मों के बारे में सुना होगा। मगर अब ऐसे हनुमानजी महाराज का पता चला है जो गजेटेड़ हैं।
2019/04/19 08:21
चैत्र माह की पूर्णिमा को हनुमानजी की जयंती मनाई जाती है। कई लोग भगवान बजरंग बली को प्रसन्‍न करने के लिए उपवास भी रखते हैं। बजरंग बली अपने भक्तों की हर मनोकामना जरूर पूरी करते हैं।
2019/04/17 01:07
जिले में आज भगवान महावीर की जयंती का पर्व बड़ी धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। सवेरे से ही जैन मंदिरों में भगवान महावीर की विधि विधान से पूजा अर्चना की गई।
2019/04/17 11:42
जिले में भगवान महावीर की जयंती बड़े ही धूम-धाम से मनाई जा रही है। इस मौके पर दिगंबर जैन समाज की ओर से शहर में भगवान महावीर की शोभायात्रा निकाली गई।
2019/04/13 12:00
आज नवरात्र की अष्टमी और नवमी दोनों साथ होने के कारण प्रदेश के अन्य जिलों की तरह जोधपुर के देवी मंदिरों में भी पूजा-अर्चना का दौर जारी है, मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम का जन्म पुष्य नक्षत्र में हुआ था।
2019/04/13 10:57
दुर्गा अष्टमी पर कैला माता के दरबार में श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ा और लाखों श्रद्धालुओं ने माता के दरबार में धोक लगाकर शांति खुशहाली की मनौती मांगी।
2019/04/13 08:40
जिले के ऐतिहासिक भंवाल माता मंदिर में इन दिनों हर वक़्त भक्तों का भारी जमावड़ा लगा है। लोग दूर दूर से माता के दरबार मे मन्नत मांगने आते है। नवरात्र  के दिनो में मन्दिर में मेले सा माहौल नजर आता है।
2019/04/12 08:39
मां दुर्गा के कालरात्रि रूप का अवतार असुरों के राजा रक्तबीज का वध करने के लिए हुआ था। इनकी पूजा करने से घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है। मां कालरात्रि का स्वरूप अत्यंत भयानक है, मगर वह सदैव अपने भक्तों को शुभ फल प्रदान करती हैं।
2019/04/08 08:03
चैत्र नवरात्र का आज यानि सोमवार को तीसरा दिन है। इस दिन मां दुर्गा के तीसरे स्वरुप मां चंद्रघंटा की पूजा होती है। देवी चन्द्रघण्टा भक्त को सभी प्रकार की बाधाओं एवं संकटों से उबारने वाली हैं। इस दिन का दुर्गा पूजा में विशेष महत्व बताया गया है तथा इस दिन इन्हीं के विग्रह का पूजन किया जाता है। माँ चंद्रघंटा की कृपा से अलौकिक एवं दिव्य सुगंधित वस्तुओं के दर्शन तथा अनुभव होते हैं
2019/04/07 09:55
पर्यटन विभाग ने गणगौर उत्सव की तैयारी लगभग पूर्ण कर ली है। आज पर्यटन भवन में निदेशक डॉ भंवरलाल ने भी गणगौर उत्सव की तैयारियों की समीक्षा की और अधिकारियों को समुचित प्रबंध करने के निर्देश भी दिए।
2019/04/06 11:54
आज 6 अप्रैल, शनिवार से नया हिन्दी वर्ष यानी नया संवत्सर 2076 शुरू हो रहा है। इस संवत्सर का नाम परिधावी है। हिन्दी नववर्ष के राजा शनि हैं और मंत्री सूर्य हैं। हिन्‍दू कैलेंडर के अनुसार गुड़ी पड़वा हर साल चैत्र (Chaitra) महीने के पहले दिन मनाया जाता है।
2019/04/06 08:45
चैत्र नवरात्रि इस बार 6 अप्रैल से शुरु हो रही है। इस दौरान मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। दुर्गा के पहले स्वरूप को 'शैलपुत्री' के नाम से जाना जाता हैं। पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न होने के कारण इनका नाम 'शैलपुत्री' पड़ा।
2019/04/05 03:40
चैत्र नवरात्र की शुरुआत 6 अप्रैल 2019 यानि कल से हो रही है। इस दिन मां दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए भक्त व्रत रखने के साथ साथ कलश की स्थापना भी करते हैं। और कन्या पूजन के साथ हवन करते हैं। इस बार नवरात्रि (Navratri) में नवमी के दौरान रवि पुष्य योग का अद्भुत संयोग बन रहा है। नवरात्रि का यह त्यौहार 6 से 14 अप्रैल तक चलेगा।
2019/04/05 03:30
चैत्र नवरात्र की शुरुआत 6 अप्रैल 2019 यानि कल से हो रही है। इस दिन मां दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए भक्त व्रत रखने के साथ साथ कलश की स्थापना भी करते हैं। और कन्या पूजन के साथ हवन करते हैं। इस बार नवरात्रि (Navratri) में नवमी के दौरान रवि पुष्य योग का अद्भुत संयोग बन रहा है।
2019/04/03 02:57
दौ सौ वर्षों से शहर मे खेली जा रही रंगतेरस पर जीनगर समाज की कोड़ामार होली की चमक आज भी कायम हैं और इसमें समाज के लोग उत्साहपूर्वक भाग लेते हैं। परम्परा के तहत पुरूष कढ़ाव में भरा रंग महिलाओं पर डालते हैं और उससे बचने के लिए महिलाऐं कोड़े से प्रहार करती हैं।
2019/03/27 09:23
राजस्थान की सांस्कृतिक राजधानी सूर्य नगरी जोधपुर में आज शाम ऐतिहासिक शीतला माता मेले का आगाज होगा। घरों में कल ठंडे भोजन का सेवन किया जाएगा तो वहीं अकेला जोधपुर ही ऐसा जिला है जहां अष्टमी को शीतला पूजन होता है।
2019/03/26 10:48
पंचांग सूर्य तथा चंद्रमा की गति को बताता है। प्रातः काल पंचांग पढ़ना बहुत ही शुभ माना जाता है। पंचांग पढ़कर उस दिन की शुभ तथा अशुभ स्थितियां जानी जा सकती हैं। कोई भी कार्य शुभ मुहूर्त में करना बेहतर होता है।

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------