Live News »

VIDEO: 17वीं लोकसभा में बढ़े 9 प्रतिशत दागी सांसद, 88 फीसदी करोड़पति निर्वाचित

VIDEO: 17वीं लोकसभा में बढ़े 9 प्रतिशत दागी सांसद, 88 फीसदी करोड़पति निर्वाचित

जयपुर: 17 वीं लोकसभा में 43 प्रतिशत यानि सबसे ज्यादा दागी निर्वाचित होकर जा रहे हैं. जो कि 2014 से 9 प्रतिशत और 2009 से 13 प्रतिशत ज्यादा है. अहम तथ्य यह भी है कि ऐसे नव सांसद जिनमें घोषित आपराधिक मामले हैं उनमें टॉप 10 में राजस्थान में बाड़मेर से नव निर्वाचित बीजेपी के कैलाश चौधरी भी शामिल हैं.

विधानसभा और लोकसभा चुनाव में विधायकों और सांसदों का ट्रेक रिकॉर्ड का विश्लेषण करने वाली एजेंसी एडीआर ने लोकसभा चुनाव की निर्वाचन प्रक्रिया पूरी होने के बाद ताजातरीन आंकड़े जारी किए हैं.

539 में से 233 यानि 43 प्रतिशत सांसदों के खिलाफ आपराधिक मामले 
- वहीं 2014 में 542 में से 185 यानि 34 प्रतिशत के ही खिलाफ घोषित आपराधिक मामले थे.

- 2009 में 543 में से 162 यानि 30 प्रतिशत के खिलाफ घोषित आपराधिक मामले थे. 

- इनमें से 159 यानि 29 प्रतिशत के खिलाफ दुष्कर्म, हत्या, हत्या की कोशिश, अपहरण, महिलाओं के खिलाफ अपराध जैसे गंभीर किस्म के मामले दर्ज हैं. 

- जबकि 2014 में 112 यानि 21 प्रतिशत के खिलाफ ही गंभीर प्रकृति के मामले दर्ज थे.

- उधर 2009 में 76 यानि 14 प्रतिशत के खिलाफ ही गंभीर प्रकृति के मामले दर्ज थे.

- 2009 से गंभीर आपराधिक मामलों के सांसदों में 109 प्रतिशत का इजाफा हुआ है.

- इडुक्की लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस के डीन कुरियाकोस ऐसे निर्वाचित सांसद हैं जिनके खिलाफ 204 आपराधिक मामले दर्ज हैं.  

- उनके खिलाफ गैर इरादतन हत्या, घर में जबरन घुसना, लूट, धमकी जैसे मामले दर्ज हैं.

-2009 में से 543 में से 162 यानि 30 प्रतिशत के खिलाफ घोषित आपराधिक मामले दर्ज हैं. तब 76 यानि 14 प्रतिशत के खिलाफ गंभीर प्रकृति के आपराधिक मामले दर्ज थे.

-2014 में 542 में से 185 यानि 34 प्रतिशत के खिलाफ घोषित आपराधिक मामले दर्ज हैं. तब 112 यानि 21 प्रतिशत के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले दर्ज थे.

- 2019 में 539 में से 233 सांसदों यानि 43 प्रतिशत के खिलाफ घोषित आपराधिक मामले दर्ज हैं. तब 159 यानि 29 प्रतिशत के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं.  

ऐसे विजेता या नव सांसद जिनके खिलाफ घोषित आपराधिक मामले दर्ज-
टॉप 10 में पहले स्थान पर केरल में कांग्रेस के इडुक्की से निर्वाचित डीन कुरियाकोस के खिलाफ 2014 आपराधिक मामले हैं जिनमें पेंडिंग केस भी दर्ज हैं. आईपीसी की गंभीर धाराओं में 37 और आईपीसी की अन्य धाराओं में 887 मामले दर्ज हैं. 

- केरल के त्रिशूर से कांग्रेस प्रत्याशी टी एन प्रथपन के खिलाफ पेंडिंग केसेस सहित कुल 7 मामले दर्ज हैं.

- राजस्थान में बाड़मेर के कैलाश चौधरी भी टॉप 10 में शामिल हैं जिनके खिलाफ पेंडिंग केसेस सहित 2 मामले दर्ज हैं. उनके खिलाफ आईपीसी की गंभीर धाराओं वाले 2 और अन्य धाराओं वाले 6 मामले हैं.

- 11 सांसद ऐसे हैं जिनके खिलाफ आईपीसी की धारा 302 के तहत हत्या का मामला दर्ज है. जिनमें सबसे ज्यादा बीजेपी के 5 सांसद हैं. वहीं यूपी से सबसे ज्यादा ऐसे 3 सांसद जीतकर आए हैं. 

- इनमें असम से बीजेपी के होरेन सिंग बे और निर्दलीय नाबा कुमार सरनिया,पश्चिम बंगाल से बीजेपी के श्री निशिथ पटनायक और निर्दलीय अधीर रंजन चौधरी,एमपी से बीजेपी के साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर,बीजेपी के छतर सिंह दरबार,यूपी से बसपा के अतुल कुमार सिंह व अफजल अंसारी,महाराष्ट्र से एनसीपी के उदयनराजे प्रतापसिंह और आध्रप्रदेश से YSRCP के कुरुवा गोरंतिया माधव शामिल हैं.  

- 30 सांसदों के खिलाफ आईपीसी की धारा 307 के तहत हत्या के प्रयास का मामला दर्ज है. 

- वहीं 19 सांसदों के खिलाफ महिलाओं के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं जिनमें से तीन के खिलाफ दुष्कर्म के मामले दर्ज हैं. 

539 में से 475 यानि 88 फीसदी सांसदों के पास एक करोड़ या इससे ज्यादा की संपत्ति

बीजेपी के 301 में से 116, कांग्रेस के 51 में से 29, डीएमके के 23 में से दस, तृणमूल कांग्रेस के 22 में से नौ,YSRCP के 22 में से दस,जद यू के 16 में से 13,बीजद के 12 में से 1,बसपा के दस में से पांच,टीआरएस के 9 में से 3,LJP  के 6 में से 6,एनसीपी की 5 में से दो,सपा के पांच में से दो,निर्दलीय 4 में से दो,टीडीपी के 3 में से 1,सीपीएम के 3 में से 2 के खिलाफ घोषित आपराधिक मामले हैं. 

- वहीं भाजपा के 301 में से 265, कांग्रेस के 51 में से 43, डीएमके के 23 में से 22, तृणमूल कांग्रेस के 22 में से बीस, YSRCP के 22 में से 19,जद यू के 16 में से 15,बीजद के 12 में से 1,बसपा के दस में से दस,टीआरएस के 9 में से 9,LJP  के 6 में से 6,एनसीपी की 5 में से 4,सपा के पांच में से 5,निर्दलीय 4 में से 3,टीडीपी के 3 में से 3,सीपीएम के 3 में से 2 करोडपति हैं।

- 539 में से 392 यानि 72.72 ही ग्रेजुएट या उससे ज्यादा शिक्षा पा चुके हैं. 

- 539 में से 128 यानि 23.74 प्रतिशत ही स्कूल तक पहुंचे हैं. 

- 1 साक्षर व 1 अनपढ़ हैं जबकि अन्य श्रेणी में 17 आते हैं. 
- देशभर से कुल 77 महिलाएं सांसद बनी हैं. इनमें राजस्थान से जसकौर मीणा,दीया कुमारी,रंजीता कोली शामिल हैं. 

अन्य दिलचस्प आंकड़े के तहत चुनाव लड़ने वाले 883 में से 266 विजेताओं यानि सांसद बननेवालों की 5 करोड़ व ज्यादा की संपत्ति है. दो करोड़ या ज्यादा की संपत्ति वालों में 125 और 50 लाख से दो करोड़ तक के 112 सांसद शामिल हैं. छिंदवाड़ा से कांग्रेस के नकुल नाथ, कन्याकुमारी में से कांग्रेस के वसंतकुमार एच और बेंगलुरू ग्रामीण में से कांग्रेस के डीके सुरेश सबसे ज्यादा अमीर सांसद हैं. इनमें से नकुल की चल संपत्ति 6 अरब 18 करोड़ और अचल संपत्ति 41 करोड 77 लाख है.

और पढ़ें

Most Related Stories

विश्व जनसंख्या दिवस: आज जरूरत 'हम दो-हमारे दो' नहीं, 'हम दो-हमारा एक' की है- डॉ. रघु शर्मा

विश्व जनसंख्या दिवस: आज जरूरत 'हम दो-हमारे दो' नहीं, 'हम दो-हमारा एक' की है- डॉ. रघु शर्मा

जयपुर: विश्व जनसंख्या दिवस के मौके पर चिकित्सा विभाग की ओर से पुरस्कार वितरण कार्यक्रम आयोजित किया गया. साथ ही 11 से 24 जुलाई तक जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा भी शुरू किया गया है. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने परिवार नियोजन की दिशा में बेहतर करने वाले 6 जिलों को सम्मानित किया.

VIDEO: मुख्यमंत्री हर कोई बनना चाहता है लेकिन बनता एक ही है- सीएम गहलोत 

जनसंख्या इस दर से बढ़ती रही तो हालात विकट होंगे: 
चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा है कि बढ़ती हुई जनसंख्या से हमारे विकास कार्य भी नजर नहीं आते. पेयजल, आवास, खाद्यान्न की समस्या इसी वजह से बढ़ रही हैं. इसी से रोजगार की समस्या भी बढ़ रही है. यदि जनसंख्या इस दर से बढ़ती रही तो हालात विकट होंगे. आने वाली पीढ़ी के लिए छोड़ने के लिए हमारे पास संसाधन नहीं बचेंगे. वर्ष 1989 में पहली बार 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस शुरू किया गया, उद्देश्य यही है कि जनसंख्या को नियंत्रित किया जा सके. चिकित्सा मंत्री ने ये विचार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से व्यक्त किए. डॉ रघु शर्मा ने कहा कि पहले नारा था, 'हम दो हमारे दो'. लेकिन अब नारा 'हम दो, हमारा एक' होना चाहिए. एक तरफ जहां देश की टोटल फर्टिलिटी रेट 2.2 है, वहीं हमारे राज्य की दर 2.5 है. यानी यह राष्ट्रीय औसत से ज्यादा है, इसलिए जनता को जागरूक होना जरूरी है. जनसंख्या स्थिरता पखवाड़े की शुरुआत करते हुए परिवार नियोजन के क्षेत्र में बेहतर कार्य करने वाले जिलों को सम्मानित किया गया. झालावाड़ जिले को पहला पुरस्कार मिला और पुरस्कार राशि के रूप में 15 लाख रुपए दिए जाएंगे. दूसरा पुरस्कार अजमेर जिले को, तृतीय पुरस्कार भीलवाड़ा जिले को मिला. चौथा स्थान हनुमानगढ़, पांचवा श्रीगंगानगर और छठा स्थान कोटा जिले को मिला. सम्बंधित जिलों के जिला कलक्टर और मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी इस दौरान मौजूद रहे. 

कोविड-19 की चुनौती लगातार बढ़ रही:  
कार्यक्रम में चिकित्सा मंत्री ने कहा कि कोविड-19 की चुनौती लगातार बढ़ रही है. अब मरीज ज्यादा बढ़ रहे हैं, पिछले 1 सप्ताह में 500 से 700 नए मरीज मिल रहे हैं.  इसके पीछे ज्यादा टेस्ट किया जाना बड़ा कारण है. हम रोज 41700 टेस्ट कर रहे हैं. लोगों को अब ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है. चुनौती के इस दौर में हमने दूसरे राष्ट्रीय कार्यक्रमों को जारी रखा है. कोरोना के अलावा दूसरे मरीजों को परेशानी नहीं हो, इसके लिए 700 मोबाइल ओपीडी वैन चलाई जा रही हैं. हमारे भीलवाड़ा और रामगंज मॉडल की चर्चा है. इस मौके पर निरोगी राजस्थान अभियान के प्रशिक्षण कार्यक्रम की भी शुरुआत की गई. 41645 गांवों में 80 हजार स्वास्थ्य मित्र लगाने की शुरुआत की जा रही है. 15 जुलाई तक प्रशिक्षण कार्यक्रम पूरा किया जाएगा. इससे ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्सा सुविधाएं बेहतर होंगी. चिकित्सा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने कहा कि राज्य में परिवार कल्याण के लिए कर्मचारी-अधिकारी बेहतर कार्य कर रहे हैं. कोरोना के चलते जिस तरह के अनुमान हैं कि 70 लाख अनवांटेड प्रेग्नेंसी के केस सामने आ सकते हैं, इन चुनौतियों से भी निपटना होगा. 

 बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत 

सरपंचों के बजाय सरपंच पति वीडियो कॉन्फ्रेंस में मौजूद थे:
कार्यक्रम में उस समय रोचक स्थिति हो गई जब ग्राम पंचायतों को पुरस्कृत किया जा रहा था और सरपंचों के बजाय सरपंच पति वीडियो कॉन्फ्रेंस में मौजूद थे. चिकित्सा मंत्री इस बात से थोड़े नाराज दिखे. उन्होंने कहा सरपंच कार्यक्रम में क्यों मौजूद नहीं हैं. मंत्री ने परिवार नियोजन के क्षेत्र में किए जा रहे प्रयासों के लिए चिकित्सा अधिकारियों को बधाई दी. राजकीय संस्थाओं के अलावा इस क्षेत्र में बेहतर कार्य करने वाले निजी अस्पतालों को भी सम्मानित किया गया. 

...काशीराम चौधरी, फर्स्ट इंडिया न्यूज, जयपुर
 

VIDEO: मुख्यमंत्री हर कोई बनना चाहता है लेकिन बनता एक ही है- सीएम गहलोत

VIDEO: मुख्यमंत्री हर कोई बनना चाहता है लेकिन बनता एक ही है- सीएम गहलोत

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान सीएम गहलोत ने प्रदेश में चल रहे विधायकों की खरीद-फरोख के प्रकरण पर खुल कर बात की. इसके साथ ही पत्रकारों के सवालों का भी जादुई तरीके से जवाब दिया. एक सवाल के जवाब में सीएम गहलोत ने कहा कि मुख्यमंत्री बनना कौन नहीं चाहता. 5-7 लोग होंगे उनमें मुख्यमंत्री बनने की योग्यता होती है. लेकिन मुख्यमंत्री एक ही बन सकता है, और एक मुख्यमंत्री बनने के बाद बाकी सब शांत होते हैं. हमारे यहां घोर शांति है. 

ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर! तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ होगी प्राथमिक जांच 

गुटबाजी तो भाजपा में है: 
वहीं इस दौरान सीएम गहलोत ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि गुटबाजी तो भाजपा में है. इस कारण इनकी प्रदेश कार्यकारिणी भी नहीं बन पा रही है. वसुंधरा जी का आजकल नाम कम आता है, चेहरा तो वसुंधरा का होना चाहिए था. वसुधरा राजे का उपयोग तो आप नहीं कर पाते, 2 बार सीएम रहने के बाद भी उनका उपयोग नहीं हो रहा है. 

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत 

हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा: 
वहीं सीएम गहलोत ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि हम कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे है तो दूसरी तरफ ये लोग सरकार गिराने में लगे हैं. हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है. सब कोरोना की तरफ ध्यान दे रहे हैं लेकिन ये लोग सरकार कैसे गिरे, कैसे तोड़फोड़ करें इसमें लगे हैं. बीजेपी के लोग धर्म, जाति के नाम पर लोकतंत्र की हत्या करने में जुटे हुए हैं. 

ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर! तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ होगी प्राथमिक जांच

ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर! तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ होगी प्राथमिक जांच

जयपुर: ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर आ रही है. तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ प्राथमिकी जांच होगी. विधायक खुशवीर सिंह, सुरेश टांक, ओम प्रकाश हुड़ला के खिलाफ जांच होगी. इन पर आदिवासी इलाकों में जाकर विधायकों को प्रलोभन देने का आरोप है. मिली जानकारी के अनुसार डूंगरपुर, बांसवाड़ा इन इलाकों में विधायकों को प्रलोभन दिया जा रहा था. डीजी आलोक त्रिपाठी ने इस खबर की पुष्टि की है. 
 

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान सीएम गहलोत ने कहा कि मैं देश-प्रदेश की स्थिति की चर्चा के लिए आया हूं. इस दौरान सीएम ने कोरोना की स्थिति पर बात रखी. साथ ही कहा कि कोरोना महामारी मैं राजस्थान का लोहा पूरे देश ने माना है. 

विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण: मुझे धमकी दे रहे, मेरे खिलाफ विशेषाधिकार हनन लाएंगे- महेश जोशी 

हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा: 
वहीं सीएम गहलोत ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि हम कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे है तो दूसरी तरफ ये लोग सरकार गिराने में लगे हैं. हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है. सब कोरोना की तरफ ध्यान दे रहे हैं लेकिन ये लोग सरकार कैसे गिरे, कैसे तोड़फोड़ करें इसमें लगे हैं. बीजेपी के लोग धर्म, जाति के नाम पर लोकतंत्र की हत्या करने में जुटे हुए हैं. अरुणाचल प्रदेश में विधायकों को खरीद लिया. 

प्रदेश की राजनीति में बढ़ती हलचल ! 26 कांग्रेस विधायकों ने भाजपा पर लगाया सरकार को अस्थिर करने का आरोप 

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे:  
उन्होंने कहा कि सतीश पूनिया और राजेंद्र राठौड़ सरकार गिराने के लिए खेल खेल रहे हैं. मध्य प्रदेश के अंदर जैसी घटना हुई उसी तरह राजस्थान में भी खेल करने की कोशिश है. बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे हैं. लेकिन राजस्थान में हमने इनकी चाल नहीं चलने दी. सबक सिखाने के बाद ये लोग नहीं मान रहे हैं. 70 साल में कांग्रेस ने लोकतंत्र बचाने का काम किया है. लेकिन आज-कल भाजपा के लोग लोकतंत्र की हत्या कर रहे हैं. देश में कभी भी इस तरह के हालात नहीं बने हैं. CBI, ED का मिस यूज किया जा रहा है.  

राजस्थान में 5 साल सरकार चलेगी: 
सीएम गहलोत ने कहा कि राजस्थान में सरकार स्थिर है और 5 साल चलेगी. हम अगला चुनाव जीतने में लग गए हैं. उसी के अनुसार बजट दिया है. आलाकममना के इशारे पर प्रदेश भाजपा खेल कर रही है. राजेन्द्र राठौड़, सतीश पूनिया व गुलाब चंद कटारिया का नाम लेते हुए सीएम गहलोत ने कहा कि इनके आका दिल्ली में बैठे हुए है. अब उनके टारगेट पूरा करने के लिए इन तीनों में होड़ मची हुई है. 'हकीकत के आधार पर जांच होनी चाहिए. हम कोई मीडिया ट्रायल नहीं कराना चाहते. मैं SOG का डीजी नहीं हूं. नए-नए नेता बने हैं इसलिए मैं कुछ नहीं कहता, मेरे पास सूचना के सोर्स है. 

VIDEO: उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी का बयान, कहा- भाजपा को अपने विधायकों का ध्यान रखना चाहिए

VIDEO: उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी का बयान, कहा- भाजपा को अपने विधायकों का ध्यान रखना चाहिए

जयपुर: प्रदेश में विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण में उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी का बयान सामने आया है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस में कोई अंदरूनी विवाद नहीं है. भाजपा को अपने विधायकों का ध्यान रखना चाहिए. साथ ही कहा कि राज्यसभा चुनाव की तरह भाजपा के विधायक न खिसक जाए. 

विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण: मुझे धमकी दे रहे, मेरे खिलाफ विशेषाधिकार हनन लाएंगे- महेश जोशी  

गहलोत सरकार को अस्थिर करने की कोशिश: 
महेंद्र चौधरी ने आरोप लगाते हुए कहा कि गहलोत सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की जा रही है. भाजपा के शीर्ष नेता, प्रदेश के नेता और प्रदेश के केंद्रीय मंत्री इसमें शामिल है. ये लोग चाहे जितनी कोशिश कर ले लेकिन कामयाब नहीं होंगे. सुनिए उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी ने क्या कुछ कहा...
 

विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण: मुझे धमकी दे रहे, मेरे खिलाफ विशेषाधिकार हनन लाएंगे- महेश जोशी

जयपुर: राजस्थान में राज्यसभा चुनावों के बाद एक बार फिर सियासी पारा उफान पर है. लगातार विधायकों की खरीद-फरोख्त का प्रकरण में आरोप-प्रत्यारोप जारी है. अब मुख्य सचेतक डॉ महेश जोशी ने कहा कि मुझे धमकी दे रहे हैं, मेरे खिलाफ विशेषाधिकार हनन लाएंगे. कटारिया जी-पूनिया जी विशेषाधिकार हनन लेकर तो आए. CM के खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव उनकी बौखलाहट का परिचायक है. फिर भी हम स्वागत करते हैं, संवैधानिक प्रक्रिया का जवाब देंगे. 

विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण में भारत भाई और अशोक सिंह से पूछताछ करेगी SOG  

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया के बयानों पर पलटवार:
इसके साथ ही डॉ. महेश जोशी ने बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया के बयानों पर पलटवार किया है. उन्होंने कहा है कि हमारी सरकार जांच एजेंसियों को प्रभावित नहीं कर रही है. ये कार्य बीजेपी राज में होता था. SOG की जांच निष्पक्ष और प्रभावी ढंग से हो रही है. मुझे भी बयान देने के लिए बुलाया गया है. हम तो इसलिये आगाहै क्योंकि पड़ोसी राज्यों में बीजेपी ने क्या किया यह सबकों पता है. 

जिसका ईमान डिग जाये वो कांग्रेसी नहीं:
इसके साथ ही मुख्य सचेतक ने कहा कि किसी भी कांग्रेसी का ईमान नहीं डिगेगा, जिसका ईमान डिग जाये वो कांग्रेसी नहीं. इस बात का मुझे पूरा भरोसा है. बता दें कि डॉ. महेश जोशी को भी SOG ने नोटिस जारी किया है. SOG ने महेश जोशी को बयान देने के लिए बुलाया है. 

प्रदेश की राजनीति में बढ़ती हलचल ! 26 कांग्रेस विधायकों ने भाजपा पर लगाया सरकार को अस्थिर करने का आरोप 

2 मोबाइल नम्बर की बात में कई बड़े खुलासे:
SOG की FIR में कांग्रेस व निर्दलीय विधायकों को 20-25 करोड़ का प्रलोभन देने की बात भी सामने आई है. 2 मोबाइल नम्बर की बात में कई बड़े खुलासे हुए हैं. प्रदेश में नया मुख्यमंत्री बनाने की भी बात हुई है. भाजपा का कहना है कि CM हमारा होगा और उप मुख्यमंत्री को केन्द्र में मंत्री बना दिया जाएगा. उप मुख्यमंत्री के दिल्ली दौरे के बारे में भी इन मोबाइल पर बात हुई है. 

विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण में भारत भाई और अशोक सिंह से पूछताछ करेगी SOG

विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण में भारत भाई और अशोक सिंह से पूछताछ करेगी SOG

जयपुर: विधायक खरीद-फरोख्त प्रकरण में अब परतें खुलने की संभावना जताई जा रही है. SOG ने ब्यावर से भारत भाई और उदयपुर से अशोक सिंह हिरासत में लिया है. उदयपुर निवासी अशोक हिस्ट्रीशीटर बताया जा रहा है. इन दोनों के मोबाइल नंबर ही सर्विलांस पर थे. दोनों की बातें सुनकर ही SOG ने मुकदमा दर्ज किया है. अब दोनों से जयपुर में विस्तृत पूछताछ होगी. इसके साथ ही मुख्य सचेतक डॉ. महेश जोशी को भी SOG ने नोटिस जारी किया है. SOG ने महेश जोशी को बयान देने के लिए बुलाया है. 

प्रदेश की राजनीति में बढ़ती हलचल ! 26 कांग्रेस विधायकों ने भाजपा पर लगाया सरकार को अस्थिर करने का आरोप 

राजनीति में एक बार फिर सियाली हलचल बढ़ी: 
राज्यसभा चुनावों के बाद राजस्थान की राजनीति में एक बार फिर सियाली हलचल बढ़ गई है. आधी रात तक मुख्यमंत्री आवास पर विधायकों व मंत्रियों की मुख्यमंत्री के साथ बैठक हुई. उधर डिप्टी सीएम पायलट दिल्ली दौरे पर है. इसके साथ ही 6-7 विधायक भी दिल्ली में डेरा डाले हुए है. इधर SOG में FIR दर्ज होने के बाद मुख्यमंत्री गहलोत एक्शन मोड पर आ गए हैं. आज भी CMR पर विधायकों व मंत्रियों से मिलने का क्रम जारी रहेगा. इसके साथ ही इस पूरे प्रकरण पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सकते हैं. 

SOG की FIR से बड़े खुलासे:  
वहीं SOG की FIR से बड़े खुलासे हुए हैं. FIR में 99292299xx और 89490656xx नंबरों का जिक्र किया गया है. इन फोन को सर्विलांस पर लिया गया था. तब सरकार को अस्थिर करने की कोशिश का खुलासा हुआ था. FIR में रमिला खड़िया, महेंद्र सिंह जीत मालवीय के नाम की चर्चा है. रमिला से भाजपा नेता द्वारा संपर्क का हवाला दिया गया है. वहीं मालवीय के बारे में भी हवाला दिया गया है. फोन की बातचीत में बताया गया कि मालवीय पहले उप मुख्यमंत्री के पाले में थे लेकिन अब पाला बदल लिया है. 

VIDEO: राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष पद की रेस में प्रमुखता से लिया जा रहा रघुवीर मीना का नाम,  First India ने की बात 

2 मोबाइल नम्बर की बात में कई बड़े खुलासे:
SOG की FIR में कांग्रेस व निर्दलीय विधायकों को 20-25 करोड़ का प्रलोभन देने की बात भी सामने आई है. 2 मोबाइल नम्बर की बात में कई बड़े खुलासे हुए हैं. प्रदेश में नया मुख्यमंत्री बनाने की भी बात हुई है. भाजपा का कहना है कि CM हमारा होगा और उप मुख्यमंत्री को केन्द्र में मंत्री बना दिया जाएगा. उप मुख्यमंत्री के दिल्ली दौरे के बारे में भी इन मोबाइल पर बात हुई है. 
 

प्रदेश की राजनीति में बढ़ती हलचल ! 26 कांग्रेस विधायकों ने भाजपा पर लगाया सरकार को अस्थिर करने का आरोप

जयपुर: राज्यसभा चुनावों के बाद राजस्थान की राजनीति में एक बार फिर सियाली हलचल बढ़ गई है. आधी रात तक मुख्यमंत्री आवास पर विधायकों व मंत्रियों की मुख्यमंत्री के साथ बैठक हुई. उधर डिप्टी सीएम पायलट दिल्ली दौरे पर है. इसके साथ ही 6-7 विधायक भी दिल्ली में डेरा डाले हुए है. इधर SOG में FIR दर्ज होने के बाद मुख्यमंत्री गहलोत एक्शन मोड पर आ गए हैं. आज भी CMR पर विधायकों व मंत्रियों से मिलने का क्रम जारी रहेगा. 

VIDEO: राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष पद की रेस में प्रमुखता से लिया जा रहा रघुवीर मीना का नाम,  First India ने की बात 

SOG की FIR से बड़े खुलासे:  
वहीं SOG की FIR से बड़े खुलासे हुए हैं. FIR में 99292299xx और 89490656ंंxx नंबरों का जिक्र किया गया है. इन फोन को सर्विलांस पर लिया गया था. तब सरकार को अस्थिर करने की कोशिश का खुलासा हुआ था. FIR में रमिला खड़िया, महेंद्र सिंह जीत मालवीय के नाम की चर्चा है. रमिला से भाजपा नेता द्वारा संपर्क का हवाला दिया गया है. वहीं मालवीय के बारे में भी हवाला दिया गया है. फोन की बातचीत में बताया गया कि मालवीय पहले उप मुख्यमंत्री के पाले में थे लेकिन अब पाला बदल लिया है. 

2 मोबाइल नम्बर की बात में कई बड़े खुलासे:
SOG की FIR में कांग्रेस व निर्दलीय विधायकों को 20-25 करोड़ का प्रलोभन देने की बात भी सामने आई है. 2 मोबाइल नम्बर की बात में कई बड़े खुलासे हुए हैं. प्रदेश में नया मुख्यमंत्री बनाने की भी बात हुई है. भाजपा का कहना है कि CM हमारा होगा और उप मुख्यमंत्री को केन्द्र में मंत्री बना दिया जाएगा. उप मुख्यमंत्री के दिल्ली दौरे के बारे में भी इन मोबाइल पर बात हुई है. 

कांग्रेस सरकार को गिराने की साजिश का खुलासा: 
ऐसे में आखिर सच फर्स्ट इंडिया की खबर सच साबित हुई है. 7 जुलाई को फर्स्ट इंडिया ने प्रदेश की कांग्रेस सरकार को गिराने की साजिश का खुलासा किया था. इसके साथ ही 30-32 कांग्रेसी व निर्दलीय विधायकों से संपर्क साधने की जानकारी दी थी. आज कांग्रेसी विधायकों ने इस खबर पर मुहर भी लगा दी है. 26 विधायकों ने संयुक्त बयान जारी कर इस बात को स्वीकार किया है. साथ ही कहा कि प्रदेश में सरकार को गिराने की कोशिश हो रही है. कांग्रेस व निर्दलीय विधायकों को दिया प्रलोभन दिया जा रहा है. मुख्यमंत्री को भी विधायक 3 दिन से इनपुट दे रहे थे. इधर SOG को भी इस तरह की जानकारी मिली. 

महिला ने लगाया सरपंच पर दुष्कर्म करने का आरोप, मामला दर्ज 

26 विधायकों ने संयुक्त बयान जारी कर लगाया आरोप:
कांग्रेस विधायकों ने भाजपा पर राज्य की कांग्रेस सरकार को गिराने की साजिश रचने का आरोप लगाया है. इसके साथ ही षड्यंत्र में भाजपा के शीर्ष स्तर के लोगों के शामिल होने का आरोप लगाया है. इन विधायकों का कहना है कि हमारे ईमान को कोई हिला नहीं सकता. कांग्रेस की सरकार पूरे 5 साल तक चलेगी. इन विधायकों में महेश जोशी, महेन्द्र चौधरी, लाखन सिंह मीणा, जोगिंदर सिंह अवाना, मुकेश भाकर, इंदिरा मीणा, वेदप्रकाश सोलंकी, संदीप यादव, गंगा देवी, हाकिम अली, वाजिब अली, बाबूलाल बैरवा, रोहित बोहरा, दानिश अबरार,चेतन डूडी, हरीश मीणा, रामनिवास गावड़िया, जाहिदा खान, अशोक बैरवा, जौहरीलाल मीणा, प्रशांत बैरवा, शकुंतला रावत, राजेन्द्र सिंह विधूड़ी, गोविंदराम मेघवाल, दीपचंद खैरिया और राजेन्द्र सिंह गुढ़ा शामिल है. 
 

Open Covid-19