Nasbandi Case: सूरतगढ़ सीएचसी में नसबंदी करवाना पड़ा भारी, ऑपरेशन के दौरान दो महिलाओं की हुई मौत

Nasbandi Case:  सूरतगढ़ सीएचसी में नसबंदी करवाना पड़ा भारी, ऑपरेशन के दौरान दो महिलाओं की हुई मौत

सूरतगढ़: राजस्थान में लगातार चिकित्सकों की लापरवाही सामने आ रही है. ताजा मामला श्रीगंगानगर जिले के सूरतगढ़ का. जहां सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में शनिवार को आयोजित नसबंदी शिविर के बाद तबीयत बिगड़ने से दो महिलाओं की मौत हो गई. शनिवार को  चिकित्सालय प्रशासन मामले को दबाने में जुटा रहा. लेकिन रविवार सुबह मृतक महिलाओं के परिजनों ने नसबंदी प्रभारी पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा खड़ा कर दिया.

2 महिलाओं को जान से हाथ धोना पड़ा:
सूरतगढ़ में राजकीय चिकित्सालय में अव्यवस्थाओं के चलते 2 महिलाओं को जान से हाथ धोना पड़ा. मामला चिकित्सालय में आयोजित नसबंदी शिविर से जुड़ा हुआ है. शनिवार को चिकित्सालय के प्रभारी और सर्जन  डॉ दर्शन सिंह के नेतृत्व में 7 महिलाओं का नसबंदी ऑपरेशन किया गया. आरोप है कि चिकित्सालय में गायनी चिकित्सक होने के बावजूद ऑपरेशन बिना गायनी चिकित्सक के कर दिए गए. यहीं नहीं ऑपरेशन के बाद सभी महिला मरीजों को चिकित्सालय के सामान्य वार्ड में भर्ती करवा दिया गया. जिले में जबरदस्त गर्मी के प्रकोप के बावजूद चिकित्सालय में किसी भी प्रकार के कूलर की व्यवस्था नहीं की गई थी. महिलाओं को पंखे के नीचे ही लिटा दिया गया. यही नहीं ऑपरेशन के कुछ ही घंटों बाद सातों मरीजों को 108 एंबुलेंस से महिलाओं को उनके गांव भेज दिया गया. इनमे से 2 महिला मरीजों की गांव पहुंचने से पहले ही तबीयत बिगड़ गई और दोनों की मौत हो गई. चिकित्सा विभाग के अनुसार दोनों मरीजों की मौत हीट स्ट्रोक यानी गर्मी की वजह से हुई.

BHARATPUR: कोरोना की वजह से गुरु पूर्णिमा का पर्व रहा फीका, नहीं हुए मंदिरों में धार्मिक आयोजन, मुड़िया पूनो मेला भी रद्द

चिकित्सा विभाग में मचा हड़कंप:
नसबंदी के बाद महिलाओं की मौत की सूचना मिलते ही चिकित्सा विभाग में हड़कंप मच गया. इसके बाद चिकित्सालय प्रशासन ने नसबंदी की गई सभी महिलाओं को वापस बुलाकर चिकित्सालय में भर्ती करा दिया. घटना की सूचना पर देर रात सीएमएचओ गिरधारी लाल मेहरडा नेचिकित्सालय में पहुंचकर घटना की जानकारी ली. हां सुबह चिकित्सकों की लापरवाही के विरुद्ध मृतक महिलाओं के परिजनों का गुस्सा फूट पड़ा और उन्होंने राजकीय चिकित्सालय में हंगामा मचा दिया. मौके पर पहुंचे राजनीतिक पार्टियों के कार्यकर्ताओं ने मामले की जांच कर दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई और मुआवजे की मांग की.  

Kanpur Encounter: अभी पुलिस गिरफ्त से दूर कुख्यात अपराधी विकास दुबे, साथी दयाशंकर चढ़ा पुलिस के हत्थे, किए कई खुलासे

2-2 लाख रुपए देने की घोषणा:
बहरहाल विभाग की ओर से दोनों मृतक महिलाओं के परिजनों को परिवार नियोजन कल्याण निधि से 2-2 लाख रुपए की घोषणा की है. लेकिन इस घटना ने एक बार फिर हमारी चिकित्सा व्यवस्था पर सवालिया निशान खड़ा कर दिया है. ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो इसके लिए जरूरत है कि नसबंदी ऑपरेशन जैसे गंभीर मामलों में चिकित्सालय में माकूल व्यवस्थाएं की जाए.

...फर्स्ट इंडिया के लिए विजय स्वामी की रिपोर्ट 

और पढ़ें