करगिल में दो बादल फटने से लघु पनबिजली परियोजना को पहुंचा नुकसान

करगिल में दो बादल फटने से लघु पनबिजली परियोजना को पहुंचा नुकसान

करगिल में दो बादल फटने से लघु पनबिजली परियोजना को पहुंचा नुकसान

करगिल: केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में करगिल के विभिन्न क्षेत्रों में दो बादल फटने से एक लघु पनबिजली परियोजना, लगभग एक दर्जन मकान और खड़ी फसलों को नुकसान पहुंचा है. अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि सांगरा और खंगराल में मंगलवार शाम बादल फटने से किसी के हताहत होने की जानकारी नहीं मिली है.

लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद (LAHDC), कारगिल के अध्यक्ष फिरोज अहमद खान ने बताया कि करगिल-जांस्कर मार्ग पर सांगरा सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ, जहां अचानक आई बाढ़ ने लघु पनबिजली परियोजना सहित संपत्ति को बहुत नुकसान पहुंचाया.

उन्होंने पीटीआई भाषा से कहा कि संकू उपमंडल के सांगरा में बादल फटने से संपत्ति को बहुत नुकसान हुआ है. हमने बिजली और पानी की आपूर्ति बहाल कर दी है, जबकि करगिल-जांस्कर सड़क को यातायात के लिए उपयुक्त बनाने के प्रयास जारी हैं. खान ने कहा कि वह स्थिति का जायजा लेने के लिए अधिकारियों की एक उच्च स्तरीय टीम के साथ घटनास्थल गए. उन्होंने कहा कि हमें कल (बृहस्पतिवार) शाम तक करगिल-जांस्कर सड़क पर यातायात बहाल होने की उम्मीद है. 

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि मूसलाधार बारिश के कारण नौ मकान और कई हेक्टेयर भूमि में खड़ी फसलों को नुकसान पहुंचा है. उन्होंने बताया कि पाणिघर गांव में अचानक आई बाढ़ के कारण कुछ मवेशी भी मारे गए. खान ने बताया कि श्रीनगर-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग पर खंगराल गांव में एक और बादल फटा, जिससे कुछ घरों और खड़ी फसलों को नुकसान पहुंचा. उन्होंने कहा कि 434 किलोमीटर लंबा राजमार्ग वाहनों के आवागमन के लिए खुला है.

आपदा प्रबंधन के एक अधिकारी ने बताया कि पहला बादल करगिल-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग पर करगिल से करीब 60 किलोमीटर दूर खंगराल गांव में फटा, जबकि दूसरा बादल जांस्कर रोड पर संकू उपमंडल में करगिल से करीब 40 किलोमीटर दूर सांगरा में फटा. (भाषा)

और पढ़ें